ज्ञान और मोक्ष की भूमि गया में आपका स्वागत है|
pinddaangaya
सन्वास सदन समिति
पितृपक्ष महासंगम हर वर्ष भाद्रपद शुकलपक्ष के अनंत चतुर्दशी के दिन से शुरू होता होकर आयोजित होता है | यह मीटा धार्मिक, मिथकीय और एतिहसिक रूप से अत्यंत महत्वपूर्ण है| बड़ी संख्या में हिंदू, तीर्थयात्री 15 दिनों के पितृपक्ष मेले के दौरान स्थानीय पंडा के निर्देशन ई मदद से अपने पूर्वजों की आत्मा को मोक्ष प्रदान करने के लिए पिन्डदान करने गया आते हैं |
बड़ी संख्या मे हर वर्ष तीर्थयात्रियों के गया आने के कारण यह बड़ी ज़रूरत वाहसूस की गई की सरकारी पदाधिकारियों का सक्रियसहयोग हो| सरकार ने "बिहार ई उड़ीसा प्लेसेज ऑफ पिलग्रिमेज एक्ट 1920 " अधिसूचित किया ताकि तीर्थयात्रियों के आवासन, सफाई, यातायात, स्वास्थ्य व अन्य सुविधाओं का बेहतर प्रबंध किया जा सके | तीर्थ यात्रियों की सुविधा के लिए और नसकी बेहतरी के लिए कई प्रावधान किए गये हैं| अन्य चीज़ों मे से एक है की तीर्थयात्रियों के लिए आवासन केवल अच्छी तरह से जाँच-परख गये लाइसेंस प्राप्त भवनों मे ही होता है जिन्हे चिकित्सकीय ई कार्यपालक अधिकारियों द्वारा अनुमति प्रदान की जाती है | इस प्रकार जिला प्रशासन तीर्थयात्रा के प्रबंधन मे एक पक्ष बन जाता है|
सॅन्वास सदन समिति का गठन 'द बिहार ई उड़ीसा प्लेसेज ऑफ पिलग्रिमेज एक्ट 1920 " के धारा 20 (2) के तहत किया गया है| यह क़ानून तीर्थयात्रियों के आवासन हेतु भवनों के नियमितीकरण व बेहतर स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न प्रावधानों के निर्माण के लिए लाया गया है|
सॅन्वास सदन समिति की संरचना मे प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा नागरिकों में से नामित सदस्य शामिल हैं जिसका गठन इस क़ानून के प्रावधानों को लागू करने ई आवश्यकतानुसार अन्य नीतियाँ बनाने के लिए किया गया है| बिहार ई उड़ीसा प्लेसेज ऑफ पिलग्रिमेज एक्ट 1920 के धारा 20 (1) के अनुसार जिन सभी एक्ट क्षेत्रों मे यह क़ानून लागू है वहाँ एक निधि का सृजन किया जाएगा जो लॉजिंग हौऊस फंड कहलाएगा| एक्ट की धारा 20(1) (ए) के तहत शुल्क की पुनर्वापसी के लिए प्रावधान सँवाद सदन समिति ने सँवाद क्षेत्र में स्वच्छता ई सेयिनिटेयान की तिर्व समस्या को दृस्टी होने के बदले मे ली जाती है| यह निश्चित किया गया है की प्रतीयत्री 5 (पाँच) रू० की दर से यह शुल्क वसूला जाए जो सदन क्षेत्र की यात्रा करता है | तीर्थयात्रियों की सुविधा को ध्यान मे रखते हुए यह भी निश्चित किया गया है की सड़क मार्ग से गया आनेवाले तीर्थयात्रियों कोवा निम्नलिखित औसत दर तय किया जाता है |
Copyright © 2015 Pinddaangaya.in | Website developed by pixelflame with technical support by NIC | Content Provided by District Administration, Gaya
This site has been visited web counter times since August 10, 2017.
Feedback
Your Name *
Email *
Phone *
Address *
Subject (in short) *
Matter in Brief *
Thank You for Visitng